नहीं बची वेदिका शिंदे, नियति से हारा विज्ञान (Vedika Shinde): Latest News 2022

 नहीं बची वेदिका शिंदे

                  नियति से हारा विज्ञान 

Latest News 2021 (Vedika Shinde)

(वेदिका शिंदे) 

(Vedika Shinde) 

   आज हमारी आँखें नम हैं, जब यह खबर पढ़ी कि नन्ही जान वेदिका शिंदे नहीं रही। वेदिका शिंदे एक साल की वो बच्ची, जो स्पाइनल मस्कुलर एट्रोफी (एसएमए) टाइप वन से पीड़ित थी। पिछले कई दिनों से वो इस बीमारी से पीड़ित थी। यह एक दुर्लभ आनुवंशिक बीमारी है, जिसमें तंत्रिका तंत्र के ठीक से काम करने के लिए ज़रूरी प्रोटीन का निर्माण करने वाला जीन नहीं होता है।जिससे मांसपेशियाँ कमजोर होने लगती हैं और साँस लेने में तकलीफ़ होती है और तंत्रिका तंत्र धीरे-धीरे काम करना बंद कर देता है, जिससे मौत हो जाती है।

(Vedika Shinde Latest Updates) 

       वेदिका इस बीमारी से ग्रस्त थी और एक निजी अस्पताल में भर्ती थी। इस बीमारी का इलाज एक इंजेक्शन था, जिसकी क़ीमत क़रीब 16 करोड़ है और यह अमेरिका से मंगाया जाना था। वेदिका के दु:खी माँ-बाप ने मदद के लिए आवाज़ लगायी, क्योंकि ज़ाहिर-सी बात है, मुश्किल था उनके लिए इतने मंहगे इंजेक्शन का इंतज़ाम करना। आम आदमी के बस में नहीं है यह। सोशल मीडिया के सहारे मदद माँगी गयी और मदद मिली भी। लेकिन वेदिका की जान नहीं बच सकी।

      यही है नियति का खेल, जिसके आगे विज्ञान के चमत्कार भी हार मान लेते हैं। इसीलिए, शायद कहते हैं कई बार दवा से ज़्यादा दुआ काम करती है। लेकिन, नन्ही वेदिका को न दवा बचा सकी और न दुआ। इसीलिए नतमस्तक हैं हम नियति के आगे ।

                 

Related Post – 

1. एक सफल खिलाड़ी पी वी सिंधु / P V Sindhu


                                                                             

                                                               

                                                                                      

Leave a Comment