ATM Full Form in Hindi – एटीएम के बारे में सभी जानकारी 2022

What is ATM in Hindi

हम सभी प्रतिदिन अपने रोज़मर्रा से जुड़े कामो के लिए ATM का इस्तेमाल करते है । 

ATM ने हमारी ज़िंदगी को बहुत आसान कर दिया है क्योंकि अगर आपको पैसो की जरूरत पड़ जाए तो आपको बार-बार बैंक में जाकर लंबी कतारों में इंतज़ार करने की कोई जरूरत नही है, ATM के जरिए आप अपने पैसो को जल्दी निकाल सकते हो, जिसमे हमारे समय की भी बहुत बचत होती है । 

ATM से पैसे निकालने के लिए सिर्फ आपको Credit/Debit Card की जरूरत होती है, जिसको मशीन में swipe करने होता है और अपना ATM pin डालते ही आपके पैसे निकल जाते है । 

इसकी सबसे अच्छी बात ये है कि ये 24/7 खुले होते है यानी अगर आपको किसी आपातकालीन स्तिथि में पैसो की जरूरत हो तो आप आसानी से प्राप्त कर सकते हो । 

ATM का full form क्या होता है और ATM कैसे काम करता है ? जैसी जरूरी जानकारी बहुत कम ही लोगो को पता है लेकिन अगर आपको भी ये सभी जानकारी के बारे में जानना है तो इस post को अंत तक जरूर पढ़ें ताकि आपके मन मे उठ रहे सभी सवाल दूर हो सके , तो चलिए देखते है। 

ATM Full Form in Hindi - एटीएम के बारे में सभी जानकारी

Full Form of ATM- ATM का फुलफॉर्म क्या है? 

ATM का full form “Automated Teller Machine” होता है। 

अलग अलग जगहों में इसका full form और अलग नामो से भी जाना जाता है, जो आप देख सकते हो –  

  • Cash Point 
  • Automatic Banking Machine (ABM)
  • Mini Bank 

और भी बहुत सारे शब्दो से जाना जाता है लेकिन सभी का अर्थ एक ही होता है।  

ATM क्या है?

ये एक प्रकार का आटोमेटिक मशीन है जिसका इस्तेमाल पैसो के लेन-देन के लिए किया जाता है, जिसके लिए किसी बैंक कर्मचारी की जरुरत नहीं होती है आप अपने पैसे कभी भी बहुत ही आसानी से निकाल सकते हो।  

ये सबसे आसान तरीका है पैसो को निकालने का जिसमें बहुत समय की भी बचत होती है, और इसके लिए आपको बैंक में भी जाने की जररूत नहीं होती है, आप direct ही अपने नज़दीकी ATM मशीन से पैसे निकाल सकते हो।  

ATM Machine के parts के बारे में जानकारी  

एटीएम,मशीन में मुख्यता दो प्रकार के ही parts लगे होते है जिसके मदद से हम अपने पैसे निकालते है – 

What is ATM in Hindi

Input device

Output device 

सबसे पहले हम देखते है की ATM के Input device में कितने प्रकार के parts होते है इसकी बारे में पूरी जानकारी- 

Input Device

Keypad  – keypad में कस्टमर अपनी पर्सनल information ( ATM pin no.) और आपको जितने पैसे निकाले है उतने amount select करना होता है और उसके बाद अपने ATM card के 4 digits का pin no. डाला जाता है।   

Card Reader – ATM मशीन में सबसे जरुरी parts में से एक होता है जिसमें customer के सभी जानकारियाँ को read करता है जो आपके ATM card के पीछे एक magnetic strip में सभी customers के data stored रहता है।  

Output Device 

Speaker –  कुछ कुछ ATM machine में speaker लगे होते है जो पैसो के लेन-देन करते वक़्त बजता है और किसी button को click करने पर भी यह sound सुनाई देता है।  

Receipt printer – यह एक तरह का प्रिंटर होता है जो ATM machine में अंदर ही होता है, जब भी हम पैसे निकालते है उसके बाद ये printer transition details जैसे name, date, amount, इत्यादि सभी जानकारी paper में print होकर मशीन से प्राप्त होता है।     

Cash dispenser – ATM  machine का सबसे जरूरी parts जिसके बिना पैसो आप निकाल ही नहीं सकते हो। यह part customer के द्वारा enter किया गया withdrawal amount के अनुसार अपने पैसे प्राप्त होते है।  

Display screen – यह एक LCD screen होता है जो मशीन में लगा होता है, जिसमें आपको लेन देन की सभी जानकारी display में दिखता है और हम अपने cash amount, Balance amount जैसी data दिखाई देता है जो पैसो के transition के process को भी दिखाता है।  

ATM कैसे काम करता है ?

सभी ATM card बैंक के साथ linked होते है, जब आपको एटीएम से पैसे निकालने होते है तब आप अपना ATM card को मशीन में swipe करते हो, जिसके बाद अपना 4 digits का ATM pin डालते हो तो मशीन ये सारी जानकारी बैंक के server को भेजता है, और बैंक द्वारा verified होते ही आपके सामने Money withdrawal  का option आता है जिसको click करके आप अपने पैसे मशीन से निकल सकते है । 

ATM के कुछ रोचक तथ्य 

ATM क्या होता है और full form of ATM के बारे में जानने के बाद अब हम इसके कुछ रोचक तथ्य के बारे में भी जान लेते है, जिसके बारे में शायद आपने नही सुना होगा –

  • ATM के अविष्कारक John Shepherd Barron को बोला जाता है । 
  • ATM Machine से पहला cash withdrawal 27th June, 2007 को london में किया गया था, जिसको एक कॉमेडी एक्टर Reg Varney ने किया था । 
  • शुरू में John Shepherd Barron चाहते थे कि ATM Pin 6 digits का हो लेकिन उनकी पत्नी (wife) Carolyn ने बोला की 6 digits को याद रखना थोड़ा मुश्किल होता है जिसके बाद इसे 4 digits कर दिया गया। 
  • भारत में पहली ATM मशीन की service साल 1987 को Hong kong and Shangal banking corporation (HSBC) बैंक द्वारा मुंबई में किया गया था । 
  • भारत का पहला Floating ATM करेला के Kochi में किया गया था जिसे State Bank of India (SBI) के द्वारा संचालित किया गया था । 
  • क्या आपको पता है कि, Brazil में ऐसे ATM machine लगे है , जिसे Biometric ATM कहा जाता है, जिसमें customer को अपना Fingerprint को scanner में scan करना पड़ता है उसके बाद ही उसे पैसे मिलते है । 
  • हम सभी जानते है कि ATM का इस्तेमाल पैसे निकालने के लिए किया जाता है लेकिन Abu Dhabi के Emirates Palace Hotel में सोने (Gold) के currency भी निकलते है। 

ATM Machine के प्रकार  

Onsite ATM – ये वो ATM मशीन होते है, जो बैंक के अंदर होते है और इसका पूरा नियंत्रण उस बैंक के पास होता है । 

Offsite ATM – इस प्रकार का ATM आपको बहुत सारे जगहों पर दिखाई देते है जैसे Bus stand, बाज़ारो में , और अन्य जगहों में मौजूद होते है ।

White label ATM – इस एटीएम को Non-Banking Financial Company (NBFC) यानी गैर-बैंक वित्तीय कंपनी द्वारा सथापित किया जाता है जो RBI के अधिनियम 2007 के अंतर्गत आता है ।

Yellow Label ATM – इस तरह के ATM का प्रयोग E-commerce के transition में किया जाता है ।

Pink label ATM – इस प्रकार के ATM का इस्तेमाल सिर्फ़ महिलाओं के द्वारा ही किया जाता है । 

Orange Label ATM – ये ATM का प्रयोग Shares के लेन -देन के लिए किया जाता है । 

Green Label ATM – इस तरह के ATM का इस्तेमाल कृषि से सम्बंधित लेन-देन के दौरान किया जाता है ।

आज आपने क्या सीखा 

मुझे उम्मीद है आपको हमारा ये पोस्ट ATM full form in hindi और इससे जुड़ी जानकारियों के बारे में कुछ सिखने को मिला होगा, इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें ताकि उनको भी इसके बारे में पता चल सके।  

अगर article में आपको किसी भी तरह के सवाल या परेशानी है तो आप नीचे comment करके पूछ सकते हो।  

आप ये भी पढ़े सकते हो 

WAN Full form in Hindi 

LAN Full form in Hindi

Full Form of NSE in Hindi 

Leave a Comment